चुप्पी की तहो में, दबी आवाज एक नारी की कलाम से...

*बहुत ही सुन्दर पंक्तिया एक नारी की कलम से*


*छोटी थी जब,  बहुत ज्यादा बोलती थी*
*माँ हमेशा झिडकती ,*
*चुप रहो ! बच्चे ज्यादा नहीं बोलते .*


*थोड़ी बड़ी हुई जब , थोड़ा ज्यादा बोलने पर*
*माँ फटकार लगाती* 
*चुप रहो ! बड़ी हों रही हों .*


*जवान हुई जब , थोड़ा भी बोलने पर* 
*माँ जोर से डपटती* 
*चुप रहो  , दूसरे के घर जाना है .*


*ससुराल गई जब , कु़छ भी बोलने पर* 
*सास ने ताने कसे,* 
*चुप रहो , ये तुम्हारा मायका नहीं* .


*गृहस्थी संभाला जब , पति की किसी बात पर बोलने पर* 
*उनकी डांट मिली ,* 
*चुप रहो ! तुम जानती ही क्या हों ?* 


*नौकरी पर गई , सही बात बोलने पर कहा गया* 
*चुप रहो ! अगर काम करना है तो* 


*थोड़ी उम्र ढली जब , अब जब भी बोली तो* 
*बच्चों ने कहा* 
*चुप रहो ! तुम्हें इन बातों से क्या लेना* .


*बूढ़ी हों गई जब , कुछ भी बोलना चाहा तो* 
*सबने कहा*
*चुप रहो ! तुम्हें आराम की जरूरत है।* 


*इन चुप्पी की तहों में , आत्मा की गहों में* 
*बहुत कुछ दबा पड़ा है* 
*उन्हें खोलना चाहती हूँ , बहुत कुछ बोलना चाहती हूँ* 
*पर सामने यमराज खड़ा है , कहा उसने* 
*चुप रहो ! तुम्हारा अंत आ गया है*
*और मैं चुपचाप चुप हो गई*
*हमेशा के लिए...✍🏻* सम्पादक मीनाक्षी निगम
🍁🍂🍁🍂🍁🍂🍁🍂🍁🍂🍁🍂🍁


Popular posts
प्रात: स्मरणीय व कल्याणकारी अत्यंत शुभ मंत्रों और उनके अर्थों के साथ जयशंकर यादव की तरफ से सुभप्रभात।
रजनीकांत की पॉलिटिक्स में एंट्री , अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में..
Image
उत्तर प्रदेश सीएम योगी के सख्त निर्देश के बाद आबकारी विभाग ने की बड़ी कार्रवाई.
यूपी के बस्ती जिले में कानून एवं शांति व्यवस्था को सुदृढ़ बनाए रखने हेतु पुलिस अधीक्षक बस्ती श्री हेमराज मीना एवं जनपद पुलिस स्थापना बोर्ड द्वारा निम्न निरीक्षक/ उप निरीक्षक/ म0उ0नि0 का हस्तांतरण किया..