एक बुजुर्ग हाथों में रामायण की छोटी पुस्तक लिऐ , रेलवे स्टेशन पर ट्रेन के इंतजार में पढ़ रहा था....

*रामायण*
रेलवे स्टेशन पर ट्रेन के इंतजार में बेंच पर बैठे एक बुजुर्ग हाथों में *रामायण* गुटका(छोटी पुस्तक ) ले कर तल्लीनता से पढ़ रहे थे । समीप ही बेंच पर एक नवयुवक अपनी श्रीमती के साथ बैठे थे ।
नवयुवक बुजुर्ग से सम्बोधित होकर बोला ..आप ये सुनी सुनाई कथाओं को पढ़ने में रखमअपना समय क्यों नष्ट कर रहे हैं ...इनसे आपको क्या सीखने को मिलेगा ?
अरे पढ़ना ही है तो , अखबार पढ़ो , इंडिया टुडे पढ़ो , और भी अन्य सैकड़ो पुस्तकें उपलब्ध है जो आपको दुनियादारी  सिखाती है , व्यवहारिक ज्ञान देती है , उन्हें पढ़ो ।तभी ट्रेन आ गई । बुजुर्ग पिछले और युवक अगले दरवाजे से ट्रेन में चढ़ गए , ट्रेन चलते ही कुछ देर बाद बुजुर्ग को उसी नवयुवक के चीखने चिल्लाने ट्रेन रोकने की आवाज सुनाई दी । पता लगा युवक खुद तो चढ़ गया था किंतु उसकी पत्नी नीचे ही रह गई थी । तब बुजुर्ग ने उस युवक से कहा - बेटा यदि तुमने अखबारों , इंडिया टुडे और अन्य सैकडों पुस्तकों के बजाय *रामायण* पढ़ी होती तो तुम्हे ज्ञात होता कि वनवास हेतु अयोध्य्या से प्रस्थान करते समय  रामजी ने पहले सीताजी को रथ पर चढ़ाया था खुद पीछे चढ़े  थे ।


*चढ़ि रथ सीय सहित दोउ भाई।*
*चले हृदयँ अवधहि सिरु नाई॥*


फिर आगे गंगा पार करते समय भी ,


*राम सखाँ तब नाव मगाई।*
*प्रिया चढ़ाई चढ़े रघुराई॥*।                             यदि तुमने जीवन मेे कभी *रामायण* पढ़ी होती तो तुम्हे यह व्यवहारिक ज्ञान होता कि ट्रेन में पहले पत्नी और बच्चों को चढ़ाना चाहिए फिर खुद चढ़ना चाहिए 


*।।जय जय श्री राम।।*
*।।हर हर महादेव।।*


Popular posts
बस्ती जिले में मुख्यमंत्री पर अभद्र टिप्पणी करने पर पूर्व मंत्री के बेटे पर मुकदमा दर्ज..
उत्तरप्रदेश के सीनियर आईएएस अफसरों के लिए खुशी की खबर..
अब तक की सबसे बड़ी खबर दिल्ली में 200 लोगों पर एफआईआर 3763 लोगों को हिरासत में लिया , कोरोना के बीच उल्लंघन करने पर सरकार का आदेश..
अयोध्या में बड़ा हादसा टला , हेलीकॉप्टर की हुई इमरजेंसी लैंडिंग व पायलट की सूझबूझ से टला बड़ा हादसा.
महामूर्ख मत बनो इस संक्रमण से मर जाओगे लापरवाही मत बरसो बार-बार अपील कर रहे हैं माननीय प्रधानमंत्री जी अपने घरों में रहकर अपनी सुरक्षा स्वयं करें और देश को भी सुरक्षित रखें.