हाईकोर्ट ने एमडीएस यूनिवर्सिटी के कुलपति के पद पर प्रो.आरपी सिंह की नियुक्ति को सही माना....


हाईकोर्ट ने एमडीएस यूनिवर्सिटी के कुलपति के पद पर प्रो. आरपी सिंह की नियुक्ति को सही माना।  ११ माह तक यूनिवर्सिटी का कामकाज ठप रहा। 
१८ सितम्बर को जोधपुर स्थित हाईकोर्ट ने मुख्य न्यायाधीश एस रविन्द्र भट्ट की अदालत ने अजमेर स्थित एमडीएस यूनिवर्सिटी के कुलपति के पद पर प्रो. आरपी सिंह की नियुक्ति को सही माना है। इसके साथ ही प्रो. सिंह के कामकाज पर लगी रोक को भी हटा लिया गया है। अब प्रो. सिंह यूनिवर्सिटी के कुलपति का काम कर सकेंगे। लेकिन सवाल उठता है कि पिछले ११ माह में कुलपति के बगैर कामकाज ठप होने से विद्यार्थियों को जो परेशानी हुई उसका जिम्मेदार कौन है? कुलपति के नहीं होने से हजारों विद्यार्थी और यूनिवर्सिटी से संबद्ध कॉलेजों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ा है। प्रो. सिंह की नियुक्ति गत भाजपा के शासन में हुई थी, लेकिन उनकी योग्यता को लेकर हाईकोर्ट में चुनौती दी गई। इस याचिका पर हाईकोर्ट ने ११ अक्टूबर २०१८ को प्रो. सिंह के कामकाज करने पर रोक लगा दी। तभी से यूनिवर्सिटी का कामकाज ठप पड़ा है। अक्टूबर २०१८ में ही विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लग गई और फिर दिसम्बर २०१८ में कांग्रेस की सरकार बनी लेकिन किसी ने भी एमडीएस यूनिवर्सिटी के कामकाज को सुधारने का प्रयास नहीं किया। कई बार तो यूनिवर्सिटी का स्थाई रजिस्टार भी नहीं रहा। उम्मीद थी नई सरकार बनने के बाद यूनिवर्सिटी के हालात सुधरेंगे, लेकिन ऐसा संभव नहीं हुआ ।


Popular posts
प्रात: स्मरणीय व कल्याणकारी अत्यंत शुभ मंत्रों और उनके अर्थों के साथ जयशंकर यादव की तरफ से सुभप्रभात।
टूटा रिकॉर्ड १२६ साल का क्रिकेट में ,सभी बल्लेबाज शून्य पर हुऐं आउट।
Image
राजधानी के तालकटोरा के थाना क्षेत्र में आत्महत्या करने के मामले सामने आए हैं।
छात्र के दुष्कर्म के मामले में हुऐ गिरफ्तार, गृह राज्य मंत्री रहे स्वामी चिन्मयानंद को १४ दिन की जेल, हुती तबियत खाराब ..
लखनऊ में प्रेमी ही निकला २० वर्षीय बीए की छात्रा अंजू का कातिल ,चाकू से गोदकर उतारा मौत के घाट.