अज़मेर डेयरी के विकास में क्रांगेस भी बनेंगे भागीदार।


अजमेर डेयरी के विकास में कांग्रेसी भी बनेंगे भागीदार। 
डेयरी अध्यक्ष रामचन्द्र चौधरी को भरोसा दिलाया। 
३० सितम्बर को अजमेर दुग्ध डेयरी की वार्षिक आमसभा स्थानीय जवाहर रंगमंच पर हुई। इस सभा में जिले भर के दुग्ध उत्पादकों के साथ-साथ सत्तारूढ़ कांग्रेस पार्टी के बड़े नेताओं ने भाग लिया। डेयरी अध्यक्ष रामचन्द्र चौधरी ने कांग्रेस के नेताओं को डेयरी के विकास में आने वाली बाधाओं से अवगत कराया। चौधरी ने बताया कि किन परिस्थितियों में डेयरी का संचालन किया जा रहा है। ३०० करोड़ रुपए से भी अधिक की लागत का नया प्लांट डेयरी में लगाया जा रहा है। जिसमें अगले वर्ष उत्पादन शुरू हो जाएगा। चौधरी ने कहा कि वे पिछले तीस वर्षों से डेयरी में अध्यक्ष पद पर हैं और अजमेर डेयरी को देश की प्रथम डेयरी बना दिया है। दुग्ध संग्रहण केन्द्रों पर जो अत्याधुनिक उपकरण अजमेर में लगे हैं, वैसे देश की किसी भी डेयरी में नहीं है। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने कांग्रेस की सरकार बनते ही पशुपालकों को दो रुपए प्रति लीटर का अनुदान देना शुरू कर दिया। इससे पशुपालकों को बड़ी राहत मिली है। दुग्ध उत्पादकों की समस्या को लेकर मुख्यमंत्री गहलोत से मुलाकात भी की है। जिले भर के पशु पालकों के परिवारों में समृद्धि लाने के लिए अजमेर डेयरी लगातार प्रयास रहत है, वहीं कांग्रेस के पूर्व विधायक रामनारायण गुर्जर, नाथूराम सिनोदिया, डॉ. श्रीगोपाल बाहेती, महेन्द्र गुर्जर, श्रीमती नसीम अख्तर, ब्रह्मदेव कुमावत, पूर्व सांसद प्रभा ठाकुर, पूर्व जिला प्रमुख रामस्वरूप चौधरी, सहकारिता आंदोलन से जुड़े अजीत जैन आदि ने चौधरी को भरोसा दिलाया कि डेयरी के विकास में पूरा सहयोग किया जाएगा। कांग्रेस के नेताओं ने माना कि चौधरी पूर्ण ईमानदारी और मेहनत के साथ डेयरी का संचालन कर रहे हैं, इसलिए पिछले तीस वर्ष से अजमेर डेयरी के अध्यक्ष हैं। चौधरी ने अपने राजनीतिक हितों से ज्यादा पशुपालकों के हितों का ख्याल रखा है। चौधरी की वजह से ही आज पूरे देश में अजमेर डेयरी का नाम है। इसमें कोई दो राय नहीं की चौधरी पशुपालकों के साथ साथ उपभोक्ताओं का भी ध्यान रखते हैं। कांग्रेस के नेताओं ने कहा कि डेयरी के विकास में आने वाली सभी बधाओं को सरकार के माध्यम से जल्द से जल्द दूर करवाया जाएगा। वार्षिक आम सभा में अनेक दुग्ध उत्पादकों को बोनस की राशि भी वितरित की गई। पशु पालकों का भी मानना रहा कि चौधरी की वजह से उन्हें दुग्ध का समय पर भुगतान होता है तथा पशुओं को लेकर जब भी कोई समस्या होती है तो चौधरी उसका तत्काल निवारण करते हैं। पशु पालकों के हितों का भी पूरा ख्याल रखा जाता है, इसलिए जिले भर के पशुपालकों के बीच चौधरी की लोकप्रियता बनी हुई है। चौधरी पशुपालकों के परिवारों के सुख-दु:ख में भी साथ रहते हैं। वार्षिक सभा में डेयरी के एमडी गुलाब भाटिया ने वार्षिक रिपोर्ट प्रस्तुत की और सभी अतिथियों तथा दुग्ध उत्पादकों का आभार प्रकट किया गया। 


Popular posts
शिक्षा किसी धर्म सम्प्रदाय की एकलौती वरासत नहीं है , मास्टर फिरोज जी अगर संस्कृत पढ़ायेंगे तो वह फारसी के शब्द बोलेगा।
Image
प्रात: स्मरणीय व कल्याणकारी अत्यंत शुभ मंत्रों और उनके अर्थों के साथ जयशंकर यादव की तरफ से सुभप्रभात।
क्या झारखण्ड चुनावों से गायब मोबलीचिंग की घटनाओं पर तारिक आज़मी की मोरबतियां - चार दिन चर्चा उठेंगी डेमोक्रेसी ।
Image
रजनीकांत की पॉलिटिक्स में एंट्री , अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में..
Image
करवा चौथ का व्रत पत्नी और भाभी मां के परिवार साथ संपन्न हुआ , व्रत के बाद इन चीजों का किया सेवन..
Image