मुस्लिम धर्मगुरुओं ने माना कि कश्मीर घाटी में सामान्य स्थिति, चालीस लाख मोबाइल भी शुरू, हकीकत आंखों की।

आंखों से हकीकत देखने के बाद मुस्लिम धर्मगुरुओं ने माना की कश्मीर घाटी में सामान्य स्थिति है। चालीस लाख पोस्टपेड मोबाइल भी शुरू। 
१४ अक्टूबर को जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर से मोबाइल पर मुझ से संवाद करते हुए ऑल इंडिया सूफी सज्जादानशीन कॉसिल के चेयरमैन और अजमेर स्थित सूफी संत ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती की दरगाह के दीवान के उत्तराधिकारी सैय्यद नसीरुद्दीन चिश्ती ने बताया कि कश्मीर घाटी में हालात सामान्य है। सुरक्षा बलों के द्वारा किसी भी कश्मीरी को प्रताडि़त नहीं किया जा रहा है। कश्मीरियों को लेकर पाकिस्तान जो प्रोपेगेंडा कर रहा है वह पूरी तरह झूठ का पुलिंदा है। केन्द्र सरकार द्वारा अनुच्छेद ३७० निष्प्रभावी करने के फैसले को भी कश्मीरी आवाम स्वयं के हित में बता रहा है। घाटी के हालातों का जायजा लेने के लिए चिश्ती के नेतृत्व में देश की प्रमुख दरगाहों प्रमुखों ने दो दिवसीय दौरा किया। दौरे की समाप्ति पर श्रीनगर से ही संवाद करते हुए चिश्ती ने बताया कि हजरतबल की दरगाह से लेकर लाल चौक तक में लोगों से सीधा संवाद किया। हालातों को आंखों से देखने और लोगों से संवाद करने के बाद सभी धर्म गुरु इस नतीजे पर पहुंचे हैं कि कश्मीरी आवाम नई तब्दीली से खुश है। उसे लगता है कि अब उनके अधिकार मिल जाएंगे। प्रतिनिधि मंडल ने बच्चों के अस्पताल का भी जायजा लिया। सरकारी अस्पतालों में जरुरतमंद लोगों का उचित इलाज हो रहा है। श्रीनगर की झील में नाव चलाने वाले कश्मीरी भी खुश है कि सरकार ने पर्यटन पर लगी रोक को हटा लिया है। चिश्ती ने कहा कि कश्मीर में सूफी संतों का खास प्रभाव है, इसलिए यहां इंटरनेशनल सूफी संस्था की स्थापना की जानी चाहिए। कश्मीर के युवाओं को उच्च शिक्षा के लिए फ्री कोचिंग देने के लिए उनकी संस्था ने जम्मू कश्मीर प्रशसन के समक्ष प्रस्ताव रखा है। चिश्ती ने कहा कि कश्मीरियों के लिए सबसे खास बात ये है कि पिछले ढाई माह में कोई अप्रिय घटना नहीं हुई है। सुरक्षा बलों को किसी भी उपद्रवी पर गोली चलाने की जरुरत नहीं पड़ी। सरकार ने जो थोड़ी बहुत पाबंदियां लगा रखी है उन्हें भी शीघ्र हटा लिया जाएगा। चिश्ती ने बताया कि दो दिवसीय दौरे की एक रिपोर्ट दरगाह दीवान सैय्यद जैनुल आबेदन के समक्ष रखी जाएगी। प्रतिनिधि मंडल अपनी रिपोर्ट से केन्द्र सरकार को भी अवगत कराएगा। 
पोस्टपेड मोबाइल शुरू:
१४ अक्टूबर से कश्मीर घाटी के दस जिलों में पोस्टपेड मोबाइल फोन शुरू हो गए हैं, यानि अब सम्पूर्ण जम्मू कश्मीर में मोबाइल फोन सेवाएं संचालित हैं। जम्मू कश्मीर प्रशासन के सूत्रों के अनुसार बीस लाख प्रीपेड मोबाइल भी जल्द शुरू कर दिए जाएंगे। हालात का जायजा लेने के बाद इंटरनेट सेवाएं भी बहाल की जाएंगी। कश्मीर घाटी में लैंड लाइन फोन पहले से ही संचालित हैं। सूत्रों ने बताया कि अब कश्मीर घाटी के हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं। 


Popular posts
प्रात: स्मरणीय व कल्याणकारी अत्यंत शुभ मंत्रों और उनके अर्थों के साथ जयशंकर यादव की तरफ से सुभप्रभात।
रजनीकांत की पॉलिटिक्स में एंट्री , अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में..
Image
उत्तर प्रदेश सीएम योगी के सख्त निर्देश के बाद आबकारी विभाग ने की बड़ी कार्रवाई.
यूपी के बस्ती जिले में कानून एवं शांति व्यवस्था को सुदृढ़ बनाए रखने हेतु पुलिस अधीक्षक बस्ती श्री हेमराज मीना एवं जनपद पुलिस स्थापना बोर्ड द्वारा निम्न निरीक्षक/ उप निरीक्षक/ म0उ0नि0 का हस्तांतरण किया..