ओसवाल जैन समाज के गांधी (राय ) परिवारों का ५ अक्टूबर से अजमेर के निकट थांवला में सम्मेलन, देश भर के गांधी जुटेंगे।


ओसवाल जैन समाज के गांधी (राय) परिवारों का ५ अक्टूबर से अजमेर के निकट थांवला में सम्मेलन। देश भर के गांधी जुटेंगे। 
देशभर में जब महात्मा गांधी की १५०वीं जयंती की धूम मची हुई है। तब अजमेर के निकट थांवला गांव में ओसवाल जैन समाज के गांधी परिवार एक साथ एकत्रित होंगे। पांच अक्टूबर को पुष्कर के एक रिसोर्ट में विभिन्न सामाजिक कार्यक्रम होंगे तथा अगले दिन ६ अक्टूबर को पैतृक गांव थांवला में सामूहिक स्नेह भोज और विचारों का आदान प्रदान होगा। गांधी परिवारों के इस सम्मेलन की जानकारी मोबाइल नम्बर 9829144425 पर सूर्य प्रकाश गांधी, 9414967294 पर पदमचंद गांधी तथा 9840059830 पर अनिल गांधी से ली जा सकती है। सम्मेलन के प्रमुख सूर्य प्रकाश गांधी ने बताया कि सम्पूर्ण जैन समाज में करीब साढ़े तीन हजार गौत्र हैं। इनमें से ओसवाल जैन समाज के करीब पांच सौ गौत्र हैं। इन पांच सौ गौत्र में ही गांधी (राय) गौत्र के परिवार भी शामिल हैं। माना जाता है कि गांधी गौत्र के परिवारों की उत्पत्ति अजमेर के निकट थांवला गांव से हुई है, इसलिए गांधी परिवार थांवला को अपना पैतृक गांव मानते हैं। आज भी यहां के मंदिर में देश भर से गांधी परिवार के सदस्य सामाजिक और धार्मिक आयोजन करने के लिए आते हैं। देशभर के ऐसे गांधी परिवारों को एकजुट करने के लिए पिछले दो वर्षों से लगातार अभियान चलाया जा रहा है और करीब दो सौ परिवार आपस में जुड़े भी हैं। वाट्सएप पर ग्रुप बनाकर ऐसे परिवारों को जोडऩे का काम किया जा रहा है। यही वजह है कि पांच और छह अक्टूबर को होने वाले सम्मेलन में देशभर के गांधी परिवार के सदस्य थांवला आ रहे हैं। सम्मेलन से जुड़े लोगों का प्रयास है कि इसके बहाने परिवारों को एकजुट किया जाए ताकि शादी ब्याह भी आसानी से हो सके। गांधी परिवार के सदस्य भी जैन धर्म के नियमों का पालन पूरी निष्ठा और श्रद्धा के साथ करते हैं। सम्मेलन में प्रमुख गांधी परिवार चैन्नई के बिरदी चंद, संजय कुमार, अनिल कुमार, सुनील कुमार खासतौर से भाग ले रहे हैं।  


Popular posts
प्रात: स्मरणीय व कल्याणकारी अत्यंत शुभ मंत्रों और उनके अर्थों के साथ जयशंकर यादव की तरफ से सुभप्रभात।
उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने दिया बहनों को तोहफा रक्षाबंधन पर बस यात्रा मुक्त..
Image
लखनऊ डीएम /बीसी अभिषेक प्रकाश की एलडीए पर बड़ी कार्रवाई..
तुलसीदास की लिखी रामायण की चौपाई , सचिव , वैद्य , गुरु जो बोले भय आज , राजधर्म तन ३ हुई बीग ही नाश.
किसी शायर ने खूब कहा , तारिक आज़मी की मोरबतियां - जय यादव की कलम से जो निकला वहीं सदातकत हैं, हमारी कलम के आगे तुम्हारी जीवाह छोटी सी है।
Image