पीएम मोदी ने कहा कि चार माह से पहले ही कश्मीर के हालात सामान्य।


विपक्षी दलों में हिम्मत हो तो अनुच्छेद ३७० को वापस लागू करने की घोषणा करें। द्वारा
पीएम मोदी ने कहा कि चार माह से पहले ही कश्मीर के हालात सामान्य हो गए
१३ अक्टूबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने महाराष्ट्र में चुनावी सभाओं को संबोधित किया। मोदी के भाषण से साफ जाहिर था कि हरियाणा और महाराष्ट्र का चुनाव अब अनुच्छेद ३७० को हटाने पर ही लड़ा जाएगा। मोदी ने कहा कि कांग्रेस एनसीपी जैसे दल जम्मू कश्मीर से अनुच्छेद ३७० को हटाने का लगातार विरोध कर रहे हैं। लेकिन यदि इन दलों के नेताओं में हिम्मत हो तो वे अनुच्छेद ३७० को वापस लागू करने की घोषणा करें। मोदी ने कहा कि विपक्षी दल इस मुद़्दे पर घडिय़ाली आंसू बहा रहे हैं। कल तक जो असंभव लग रहा था, उसे हमने मुमकिन किया है। अनुच्छेद ३७० के निष्प्रभावी होने के बाद कश्मीर में तेजी से अमन चैन कायम हो रहा है। प्रदेश के लोग इस बात से खुश है कि उन्हें अब अनेक सरकारी सुविधाएं मिलेंगी। अनुच्छेद ३७० की वजह से अब तक कश्मीर के लोग इन सुविधाओं से वंचित थे। प्रधानमंत्री ने कहा कि जो नेता ३७० को हटाने के बाद के हालातों का डर दिखाते थे, उन्हें अब यह समझना चाहिए कि चार माह से पहले कश्मीर के हालात सामान्य हो गए हैं। आज पूरा देश एक साथ खड़ा है। लेकिन कुछ लोग अपने राजनीतिक स्वार्थों की खातिर विरोध कर रहे हैं। कश्मीर के पड़ौस में नापाक शक्तियां सक्रिय हैं। जो हालातों को बिगाडऩे पर तूली हुई है, लेकिन हम हालातों को किसी भी स्थिति में बिगडऩे नहीं देंगे। मोदी के भाषणा से साफ था कि चुनाव में भाजपा अनुच्छेद ३७० को सबसे बड़ा मुद्दा बनाएगी। मोदी ने इसी मुद्दे पर विपक्षी दलों को कठघरे में खड़ा किया। मोदी ने जिस अंदाज में भाषण दिया उससे साफ प्रतीत हो रहा था कि आने वालले चुनावों में भी भाजपा की ओर से अनुच्छेद ३७० को हटाने का मुद्दा ही अहम रहेगा। सब जानते हैं कि महबूबा मुफ्ती जैसी नेतेाओं ने कहा था कि यदि अनच्छेद ३७० के साथ छेड़छाड़ की गई तो जम्मू कश्मीर में तिरंगे को कंधा देने वाला कोई नहीं मिलेगा। ऐसी हिंसा होगी की संभालना मुश्किल होगा। लेकिन आज वो ही महबूबा मुफ्ती जम्मू कश्मीर की सरकार की मेहरबानी पर निर्भर हैं और अलगाववाद ग्रस्त कश्मीर घाटी में भी हालात तेजी से सामान्य हो रहे हैं। घाटी में अभी भी जो नेता पाकिस्तान के आतंकियों के इशारों पर काम कर रहे हैं उन्हें समझना चाहिए कि कश्मीर घाटी के युवाओं को रोजगार  चाहिए। सेना में भर्ती होने के बाद कश्मीर के युवा बड़ी संख्या में आ रहे हैं। इससे भी कश्मीर के हालातों का अंदाजा लगा लेना चाहिए। वैसे भी जम्मू कश्मीर के अस्सी प्रतिशत क्षेत्र में अमन चैन है और इंटरनेट से लेकर सभी सुविधाएं बहाल कर दी गई है। कश्मीर घाटी में भी १४ अक्टूबर से पोस्ट पैड मोबाइल चालू हो जाएंगे। इससे पहले लैंड लाइन फोन भी शुरू कर दिए गए थे। 


Popular posts
प्रात: स्मरणीय व कल्याणकारी अत्यंत शुभ मंत्रों और उनके अर्थों के साथ जयशंकर यादव की तरफ से सुभप्रभात।
रजनीकांत की पॉलिटिक्स में एंट्री , अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में..
Image
उत्तर प्रदेश सीएम योगी के सख्त निर्देश के बाद आबकारी विभाग ने की बड़ी कार्रवाई.
यूपी के बस्ती जिले में कानून एवं शांति व्यवस्था को सुदृढ़ बनाए रखने हेतु पुलिस अधीक्षक बस्ती श्री हेमराज मीना एवं जनपद पुलिस स्थापना बोर्ड द्वारा निम्न निरीक्षक/ उप निरीक्षक/ म0उ0नि0 का हस्तांतरण किया..