सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में मुस्लिम पक्षों को राहत दी, लिखित नोट रिकार्ड करानें की अनुमति दे दी।

सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्‍या मामले में मुस्लिम पक्षों को राहत देते हुए लिखित नोट रिकार्ड कराने की अनुमति दी है।...




नई दिल्‍ली, प्रेट्र। सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को दशकों पुराने राम जन्‍मभूमि-बाबरी मस्जिद जमीन विवाद मामले में उत्‍तर प्रदेश सुन्‍नी वक्‍फ बोर्ड समेत तमाम मुस्लिम पक्षों को लिखित नोट दायर करने की अनुमति प्रदान की।मुस्लिम पक्षों के वकील ने चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की अगुवाई वाले तीन सदस्‍यीय जजों के बेंच से आग्रह किया कि उन्‍हें लिखित नोट रिकार्ड कराने की अनुमति दी जाए।४० दिनों की लंबी सुनवाई के बाद १६ अक्‍टूबर को कोर्ट ने अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था और हिंदू व मुस्लिम पक्षों को वैकल्पिक राहत के लिए लिखित नोट दाखिल करने के लिए तीन दिनों की अवधि दी थी। मामले में मुस्लिम पक्षों के वकील ने कहा कि विभिन्‍न पार्टियां और शीर्ष कोर्ट रजिस्‍ट्री ने सीलबंद लिफाफे में नोट को लेकर आपत्ति जताई है।




Popular posts
लखनऊ 18 अक्टूबर को नाका में हुई हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या से जुड़ा मामला, राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत की जा रही है बड़ी कार्रवाई.
नोएडा में लगातार आ रहे कोरोना वायरस पॉजिटिव संक्रमण की केस , 4 नए मामले आए सामने.
यूपी में चली तबादला एक्सप्रेस ३० सीनियर पीसीएस के ट्रांसफर , जाने इन सभी अधिकार के नाम.....
कलश स्थापना के साथ मां की अराधना में लीन हुई भोले बाबा की नगरी , उमडा श्रद्धा का सैलाब मंदिरों में भक्तों की।
दिल्ली सरकार मुख्यमंत्री केजरीवाल और उपराजपाल न प्रेस कॉन्फ्रेंस किया और आश्वासन दिया आपकी जरूरत की हर सामान पहुंचाई जाएगी यह सरकार की..