अदालत के सर्वोच्च फैसले से बेहद खुश हैं मस्जिद पक्ष के मुद्दई इकबाल अंसारी


लखनऊ: बरसो से चली आ रही लड़ाई पर आज आखिर सुप्रीम कोर्ट ने पुर्ण विराम लगा ही डाला है। मस्जिद मंदिर मामले में आये इस फैसले को अगर आप ध्यान से देखे तो न किसी की जीत हुई है और न ही किसी की हार। मसला संपत्ति विवाद का था जिसको सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में सुलझा दिया है। फैसले पर सभी तरफ से प्रतिक्रियाओं का आना जारी है। इस मामले में बाबरी मस्जिद के तरफ से मुद्दई इक़बाल अंसारी ने उच्चतम न्यायालय द्वारा शनिवार को दिए गए फैसले पर खुशी जाहिर की है। इक़बाल अंसारी इस मामले में पक्षकार रहे दिवंगत हाशिम अंसारी मरहूम के बेटे हैं।इकबालअंसारी ने टेलीफोन पर कहा है कि वह न्यायालय के फैसले से बहुत खुश हैं। उन्हें इस बात की सबसे ज्यादा खुशी है कि यह मसला सुलझ गया है। उन्होंने कहा कि वह अदालत के निर्णय को अपनी तरफ से कोई चुनौती नहीं देंगे। अंसारी ने कहा कि न्यायालय ने सरकार को आदेश दिया है कि वह अयोध्या में किसी और स्थान पर मस्जिद के निर्माण के लिए जमीन दे। यह एक तरह से मुसलमानों की जीत है। अब यह सरकार की जिम्मेदारी है कि वह अयोध्या में किसी जगह मस्जिद के लिए जमीन दे।उन्होंने कहा कि हमने पहले भी कहा था और अब भी कहते हैं कि हम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हैं। अब ये जिम्मेदारी सरकार की है कि वो हमें जमीन कहां देती है। ये हिदुस्तान का अहम मसला था, जो आज ख़त्म हो गया।




Popular posts
लखनऊ 18 अक्टूबर को नाका में हुई हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या से जुड़ा मामला, राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत की जा रही है बड़ी कार्रवाई.
नोएडा में लगातार आ रहे कोरोना वायरस पॉजिटिव संक्रमण की केस , 4 नए मामले आए सामने.
यूपी में चली तबादला एक्सप्रेस ३० सीनियर पीसीएस के ट्रांसफर , जाने इन सभी अधिकार के नाम.....
कलश स्थापना के साथ मां की अराधना में लीन हुई भोले बाबा की नगरी , उमडा श्रद्धा का सैलाब मंदिरों में भक्तों की।
दिल्ली सरकार मुख्यमंत्री केजरीवाल और उपराजपाल न प्रेस कॉन्फ्रेंस किया और आश्वासन दिया आपकी जरूरत की हर सामान पहुंचाई जाएगी यह सरकार की..