बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने लिखा विभिन्न बार को पत्र, वकीलों द्वारा हिंसा के खिलाफ,(बीसीसीआई) ने पुलिस की कड़ी निन्दा की और उनके भी खिलाफ भी सख्त कार्रवाई की मांग की।


नई दिल्ली: बार काउंसिल ऑफ इंडिया (बीसीआई) ने शनिवार को तीस हजारी अदालत परिसर में झड़प के दौरान कथित पुलिस कार्रवाई की निंदा की, जिसमें लगभग 10 पुलिस कर्मी और कई वकील घायल हो गए थे। बीसीआई ने इस पुलिस कार्रवाई को क्रूर करार दिया और पुलिस के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की मांग की थी।इसके बाद बार काउंसिल ऑफ इंडिया ने विभिन्न बार को एक पत्र लिखा है। पत्र में कहा गया है कि साकेत कोर्ट के वकील द्वारा पुलिस कर्मी की पिटाई, ऑटो चालक के साथ धक्कामुक्की और आम नागरिकों की पिटाई जैसी घटनाएं बेहद शर्मनाक है। बार काउंसिल ऑफ इंडिया इसे कभी बर्दाश्त नहीं करेगा।  बार काउंसिल ने अपने पत्र में कहा कि हमें उन वकीलों की पहचान करनी चाहिए जो गुंडागर्दी में लिप्त रहे थे। साथ ही बार काउंसिल ने वकीलों से अनुरोध भी किया कि वे अपना विरोध समाप्त करें।काउंसलि ने अपने पत्र में लिखा कि वकीलों द्वारा की गई हिंसा की वजह से आज हम लोगों के बीच सहानुभूति खोते जा रहे हैं। बीसीआई के अध्यक्ष मनन कुमार मिश्रा ने अपने पत्र में कहा कि ऐसे उपद्रवी तत्व संस्थान की छवि को धूमिल कर रहे हैं और यह इन अधिवक्ताओं को प्रोत्साहित करने वाले बार निकायों की निष्क्रियता और सहिष्णुता है, जिसके परिणामस्वरूप अंततः उच्च न्यायालयों या सुप्रीम कोर्ट द्वारा “अवमानना कार्यवाही” की जाएगी




Popular posts
लखनऊ 18 अक्टूबर को नाका में हुई हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या से जुड़ा मामला, राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत की जा रही है बड़ी कार्रवाई.
नोएडा में लगातार आ रहे कोरोना वायरस पॉजिटिव संक्रमण की केस , 4 नए मामले आए सामने.
यूपी में चली तबादला एक्सप्रेस ३० सीनियर पीसीएस के ट्रांसफर , जाने इन सभी अधिकार के नाम.....
कलश स्थापना के साथ मां की अराधना में लीन हुई भोले बाबा की नगरी , उमडा श्रद्धा का सैलाब मंदिरों में भक्तों की।
दिल्ली सरकार मुख्यमंत्री केजरीवाल और उपराजपाल न प्रेस कॉन्फ्रेंस किया और आश्वासन दिया आपकी जरूरत की हर सामान पहुंचाई जाएगी यह सरकार की..