बधना चाहते थे जीवन के सूत्र में करके शादी, परिजन नहीं माने तो प्रेमी युगल ने एक साथ होटल के कमरे में किया दर्दनाक आत्महत्या, मौत को बनाया आसान।


कानपुर। प्रेमी युगल ने एक साथ जीने मरने की कसम कुछ इस तरह पूरी किया कि जब एक न हो सकते तो एक साथ मौत को गले लगा लिया। घटना कानपुर के रेलबाज़ार स्थित एक होटल की बताई जा रही है। जहा एक होटल में प्रेमी युगल ने एक साथ अपने जीवन की ईह लीला को समाप्त कर लिया। यही नही प्रोफेशन की जानकारी का भरपूर उपयोग करते हुवे दोनों ने दर्दनाक होने वाली आत्महत्या की मौत को भी आसान मौत बना डाला।






किया कुछ इस तरह कि नर्सिंग की ट्रेनिंग कर रहे प्रेमी युगल ने मेडिकल लाइन से जुड़े होने के चलते दर्द भरी मौत को आसान करने के लिए दोनों ने पहले ओवरडोज नींद की गोलियां खाईं। दोनों ने विगो लगाया और इसके बाद एक ग्लूकोज की बोतल से दो ट्यूब लगाकर ग्लूकोज चढ़ाना शुरू किया। धीमी गति से चल रहे ग्लूकोज के खत्म होने पर शरीर का खून बाहर की ओर खिंच गया। नींद की गोलियों के असर से दर्द भी नहीं हुआ और जान भी चली गई।होटल से मिली आइडी से युवक की शिनाख्त मनोहर विहार सतबरी रोड यशोदा नगर निवासी २२ वर्षीय सौरभ सिंह और युवती की पहचान हरिचंद्रखेड़ा नर्वल निवासी मुस्कान के रूप में हुई। थाना प्रभारी रेलबाजार दधिबल तिवारी ने बताया कि दोनों चकेरी के न्यू कुबेर हास्पिटल में नर्सिंग की ट्रेनिंग कर रहे थे। शनिवार शाम चार बजे दोनों हॉस्पिटल से एक साथ निकले। वहां से होटल में आकर कमरा लिया। नींद की गोलियां खाने के बाद सुसाइड किया। आत्महत्या के पीछे के कारण पर उनका कहना है कि दोनों एक दूसरे से शादी करना चाहते थे लेकिन लड़के के घरवाले इसके लिए राजी नहीं थे।देर रात तक दोनों के बाहर न आने पर होटल के मैनेजर ने रेलबाजार पुलिस को सूचना दी। पुलिस ने पहुंचकर दरवाजे की कुंडी तोड़ी तो अंदर का नजारा देख होश उड़ गए। पुलिस ने फॉरेंसिक टीम बुला साक्ष्य जुटाए। जाँच के दौरान युवक के पास से सुसाइड नोट भी मिला है। २९ अक्तूबर को सौरभ ने आठ पेज का सुसाइड नोट लिखा था। इसमें लिखा है कि ३० अक्तूबर की रात वह और मुस्कान सुसाइड करेंगे। लेकिन उस दिन दोनों खुदकुशी नहीं कर सके।सुसाइड नोट एक डायरी में लिखा मिला। पुलिस के मुताबिक सौरभ को डायरी लिखने का शौक था। वह हर दिन की गतिविधि डायरी में लिखता था। नोट में लिखा था कि हमें कोई समझ नहीं पा रहा है। जाति, धर्म और मजहब सब हमारी समझ से दूर हैं क्योंकि भगवान ने सबको इंसान बनाया है। हमने किसी का विश्वास नहीं तोड़ा है। इसलिए चैन से मरने जा रहे हैं।थाना प्रभारी ने बताया कि छानबीन में युवती के बाएं हाथ की नस कटी मिली है। उससे भी रक्तस्राव हुआ है।



माना जा रहा है कि नींद की गोलियां खाने के बाद मुस्कान ने बाएं हाथ की नस काटी, जबकि सौरभ के शरीर में कोई कट नहीं मिला है। दोनों के प्रेम प्रसंग की जानकारी घर वालों को थी। अलग बिरादरी होने के चलते युवती के परिजन शादी को राजी नहीं हुए। स्वजनों ने पानीपत में उसकी शादी तय कर दी थी। २२ नवंबर को मुस्कान की शादी होनी थी, जिसके निमंत्रण पत्र भी परिवार वालों ने बांटने शुरू कर दिए थे। वही मनोहर विहार सतबरी रोड यशोदा नगर निवासी बराती लाल के तीन बच्चों में  २२ वर्षीय सौरभ सिंह इकलौता बेटा था।