लोकसभा चुनाव ५४२ में से ३४७ सीटों पर मतदान और मतगणना विसंगतियां बताते हुए सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हुई याचिका।


नई दिल्ली: लोकसभा चुनाव 2019  में ईवीएम के इस्तेमाल का मामला फिर सुप्रीम कोर्ट में पहुंच गया है। एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (एडीआर) ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल करके मांग की है कि चुनाव आयोग को निर्देश दिया जाए कि वह किसी भी चुनाव के अंतिम फैसले की घोषणा से पहले वोट डेटा का वास्तविक और सटीक सामंजस्य स्थापित करे। याचिकाकर्ता ने 2019 के लोकसभा चुनाव परिणामों से संबंधित आंकड़ों में सामने आईं ऐसी सभी गड़बड़ियों  की जांच की भी मांग की है।याचिका में चुनाव आयोग (ईसी) पर सवाल उठाते हुए कहा गया है कि डेटा में कई बदलाव गड़बड़ियों को छिपाने का प्रयास हो सकता है। विशेषज्ञों की एक टीम ने याचिकाकर्ताओं के साथ-साथ विभिन्न निर्वाचन क्षेत्रों में डाले गए मतों की संख्या और गिने गए मतों की संख्या के बीच गड़बड़ियों पर शोध किया। यह शोध दो दिनों – 28 मई और 30 जून 2019 को चुनाव आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध आंकड़ों के साथ-साथ 'माय वोटर्स टर्नआउट ऐप 'पर आधारित था।चुनाव आयोग की चुनाव प्रक्रिया पर गंभीर चिंता जताते हुए याचिका में कहा गया है कि कई मौकों पर चुनाव आयोग ने 2019 के लोकसभा चुनाव परिणामों की घोषणा के बाद अपनी वेबसाइट के साथ-साथ अपने ऐप, 'माई वोटर्स टर्नआउट ऐप' में मतदान का डेटा बदल दिया था।




Popular posts
लखनऊ 18 अक्टूबर को नाका में हुई हिंदूवादी नेता कमलेश तिवारी की हत्या से जुड़ा मामला, राष्ट्रीय सुरक्षा कानून के तहत की जा रही है बड़ी कार्रवाई.
नोएडा में लगातार आ रहे कोरोना वायरस पॉजिटिव संक्रमण की केस , 4 नए मामले आए सामने.
यूपी में चली तबादला एक्सप्रेस ३० सीनियर पीसीएस के ट्रांसफर , जाने इन सभी अधिकार के नाम.....
कलश स्थापना के साथ मां की अराधना में लीन हुई भोले बाबा की नगरी , उमडा श्रद्धा का सैलाब मंदिरों में भक्तों की।
दिल्ली सरकार मुख्यमंत्री केजरीवाल और उपराजपाल न प्रेस कॉन्फ्रेंस किया और आश्वासन दिया आपकी जरूरत की हर सामान पहुंचाई जाएगी यह सरकार की..