सहस्त्रबाहु भगवान सम्राट राज राजेश्वर की जयंती धूमधाम से मनाई गई।

जायसवाल क्लब के तत्वावधान में होगा 29 फरवरी स्वजातिय सामूहिक वैवाहिक कार्यकम



विवाह कार्यक्रम में क्लब उठायेगा सारा खर्च, वर वधू देगा उपहार


सुरेश गांधी


वाराणसी। चक्रवर्ती सम्राट राज राजेश्वर भगवान सहस्त्रबाहु अर्जुन की जयंती रविवार को जगतगंज स्थित जायसवाल क्लब कार्यालय में धूमधाम से मनाई गई। इस मौके पर जायसवाल क्लब राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज जायसवाल की देखरेख में वैदिक मंत्रोचार एवं विधि-विधान पूर्वक समाज के कुलदेवता भगवान राज राजेश्वर सहस्त्रबाहु अर्जुन की तैल चित्र के समक्ष माल्यार्पण, पूजन-अर्चन एवं हवन किया गया। हवन-पूजन एवं आरती मनोज जायसवाल ने किया।



इस मौके पर जायसवाल क्लब के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज जायसवाल ने समाज के लोगों को संबोधित करते हुए कि भगवान सहस्त्रबाहु अर्जुन शक्तिशाली सम्राट रहे हैं। उन्होंने रावण जैसे योद्धा को हराया था। उन्हें गर्व है कि जायसवाल समाज उनके वंशज है। उनके विचारों एवं पराक्रम को समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाना समाज के हर व्यक्ति की नैतिक जिम्मेदारी है। श्री मनोज जायसवाल ने समाज की एकजुटता पर बल देते हुए कहा कि उनके पूर्वज रहे काशी प्रसाद जायसवाल का विशेष यागदान रहा है। क्लब ने निर्णय लिया है कि उनकी जयंती के मौके पर 27 नवंबर को एक वृहद कार्यक्रम का आयोजन किया जायेगा। इसके अलावा 29 फरवरी 2020 को जायसवाल क्लब के तत्वावधान में स्वजातिय सामूहिक विवाह का आयोजन होगा। इस विवाह कार्यक्रम में भाग लेने वाले परिवरों को कुछ नहीं देना होगा। विवाह का सारा खर्च व उपहार जायसवाल क्लब देगा। इसमें टीवी, फ्रिज, पलंग से लेकर बेटी को उपहार में दी जाने वाली सभी सामान शामिल होगा। इसके लिए रजिस्ट्रेशन प्रारंभ हो गया है,। जो सदस्य या समाज के लोग अपनी वर बहू का विवाह चाहते है वे कार्यालय में आकर 30 जनवरी तक रजिस्ट्रेशन कर लें। श्री मनोज जायसवाल ने लोगों से अपील किया है कि इस वैवाहिक कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए अभी से युद्धस्तर पर जुट जाएं।



इसके पूर्व कार्यक्रम में पहुंचे लोगों को जायसवाल क्लब के नीरज जायसवाल ने राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज जायसवाल सहित समाज के अन्य लोगों के ललाट चंदन तिलक लगाया। इस दौरान बारी बारी से समाज के लोगों भगवान सहस्त्रबाहुजीमहराज के तैलपि अर्पित कर हवन एवं आरती की। श्री जायसवाल ने समाज के लोगों का आह्वान किया कि समाज के उत्थान के लिए आगे आएं। अंत में सभी का आभार व्यक्त करते हुए मनोज जायसवाल कहा की दूर दराज से आये समाज के सभी लोगो के उपस्थिति से समाज को मजबूती मिलती है। ऐसे ही आप सबकी उपस्थिति मिलती रहे। इससे संगठन और भी मजबूत होता चला जायेगा। समाज के प्रति लगनशील एवं जुझारु युवा अनूप जायसवाल ने कहा कि भगवान सहस्त्रबाहु अर्जुन की संसार के कल्याण के लिए अनेकों गाथाएं वर्णित हैं, जिनका अनुसरण करके हम आदर्श समाज की स्थापना कर सकते हैं।


कार्यक्रम में शामिल समाज के महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ के प्रोफेसर कृपा शंकर जायसवाल जी ने भी समाज के लोगो का हौशला बढ़ाते हुए समाज के लोगो को शास्त्र व धर्म के बारे में विस्तार से बताया। कहा, कार्तिक माह के शुक्ल पक्ष सप्तमी तिथि को सहस्त्रबाहु अर्जुन की जयंती मनाई जाती है। उनका जन्म महाराज हैहय की दसवी  पीढ़ी में माता पद्मिनी के गर्भ से हुआ था उनका नाम एकवीर तथा  सहस्त्रार्जुन भी है। चंद्रवंशी क्षत्रियो में हैहय वंश के महाराजा कृतवीर्य के पुत्र होने के कारण उन्हें कार्तवीर्य अर्जुन भी कहा जाता है।


कार्यक्रम में उपस्थित समाज के स्वजातीय बंधूओं के अलावा जायसवाल क्लब के प्रदेश अध्यक्ष नंदलाल जायसवाल, मुरलीधर जायसवाल, प्रोफेसर बृजेश जायसवाल, नीरज जायसवाल, गोपाल जायसवाल, दीपक जायसवाल, अनूप जायसवाल, लक्ष्मीनारायण जायसवाल, माया जायसवाल, सुरेश गांधी जायसवाल, मुकेश जायसवाल, अवधेश जायसवाल, जगदीश जायसवाल, आनंद जायसवाल सहित अन्य लोग मौजूद थे। 


Popular posts
शिक्षा किसी धर्म सम्प्रदाय की एकलौती वरासत नहीं है , मास्टर फिरोज जी अगर संस्कृत पढ़ायेंगे तो वह फारसी के शब्द बोलेगा।
Image
प्रात: स्मरणीय व कल्याणकारी अत्यंत शुभ मंत्रों और उनके अर्थों के साथ जयशंकर यादव की तरफ से सुभप्रभात।
क्या झारखण्ड चुनावों से गायब मोबलीचिंग की घटनाओं पर तारिक आज़मी की मोरबतियां - चार दिन चर्चा उठेंगी डेमोक्रेसी ।
Image
रजनीकांत की पॉलिटिक्स में एंट्री , अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में..
Image
करवा चौथ का व्रत पत्नी और भाभी मां के परिवार साथ संपन्न हुआ , व्रत के बाद इन चीजों का किया सेवन..
Image