सोनिया गांधी का निर्देश , गर्भवती महिलाओं मिलेगी हर माह ६००० रुपये-पैसे।




राजनितिक - प्रशासनिक



मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ व राजस्थान सहित कुछ कुछ राज्यें में गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिलाओं को अब जल्द ही ६ हज़ार रुपए महीना राज्य सरकार की ओर से सहायता मिलने की उम्मीद है। दरअसल, कांग्रेस की राष्ट्रीय अध्यक्ष सोनिया गांधी ने सभी कांग्रेस शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों को पत्र लिखकर कहा है कि वे यह सुनिश्चित करें कि, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत गर्भवती महिलाओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को प्रतिमाह ६००० रुपये की सहायता राशि का भुगतान किया जाए।जानकारी के मुताबिक सोनिया गांधी ने अपने पत्र में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून २०१३ का उल्लेख करते हुए लिखा है कि, इस नियम के तहत ६ हज़ार रुपए गर्भवती महिलाोओं और स्तनपान कराने वाली महिलाओं को सहायता देने का प्रावधान है। इसलिए इस नियम को लागू कराना सुनिश्चित किया जाए।उन्होंने पत्र में लिखा है कि, ये मदद उन महिलाओं को दी जाए जिन्हें पहले से प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना के तहत यह सुविधा नहीं मिल रही है। उन्होंने केंद्र सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि, उसने PMMVY योजना के तहत ये भुगतान ६००० रुपये से घटाकर ५००० रुपये कर दिया था। साथ ही इसमें किसी भी महिला को केवल पहले बच्चे के लिए ही यह मदद देने का प्रावधान कर दिया है जबकि, कि NFSA में ऐसा नहीं है।मालूम हो कि, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून कांग्रेस की मनमोहन सरकार ने २०१३ में लागू किया था, लेकिन सरकार बदल गई। योजना भी कुछ बदल गई, बाद में भुला भी दी गई, अब चूंकि कुछ राज्यों में कांग्रेस और कांग्रेस की सहयोगी सरकारें हैं तो सोनिया गांधी ने लागू करने के निर्देश जारी कर दिए।सोनियां गांधी ने कहा है कि, २०१७-१८ में मात्र २२ फीसदी महिलाओं को ही इस योजना का लाभ मिल पाया। उन्होंने कहा कि नई योजना के तहत कैश ट्रांसफर को आधार नंबर से जोड़ दिया गया है, जो कई तरह की तकनीकी दिक्कतें पैदा करती है, और इसकी वजह से भी कई महिलाएं इसका लाभ नहीं उठा सकी।गौरतलब है कि २०२८ में विधानसभा चुनाव में जीत मिलने के बाद मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस की सरकार बनी है। सोनिया गांधी के इस पत्र से उम्मीद की जा सकती है कि, मप्र में कमलनाथ की, राजस्थान में अशोक गहलोत की और छग में भूपेश बघेल की सरकारें जल्दी ही इस नियम को लागू करेंगी। जिससे इन प्रदेशों की गर्भवती व स्तनपान कराने वाली महिलाओं को इसका लाभ मिल सकेगा।


सम्पर्क सूत्र:- कलाम द ग्रेट न्यूज़