भाजपा संसद प्रज्ञा ठाकुर को रक्षा मंत्रालय की समिति से हटाया संसद के प्रवेश में लागाई गई रोक भोपाल ......

प्रज्ञा


 ठाकुर को रक्षामंत्रालय की समिति से सांसद और मालेगांव धमाके की प्रमुख आरोपी सांसद प्रज्ञा ठाकुर की कांग्रेस के बाद अब उनकी ही पार्टी भाजपा ने भी निंदा की है. यही नहीं सांसद प्रज्ञा को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह की अध्यक्षता में गत दिनों गठित समिति से भी हटा दिया गया है।उल्लेखनीय है कि अभी तक इस समिति की एक भी बैठक आयोजित न हो सकी. साथ ही कांग्रेस उसी दिन से भाजपा व केन्द्र पर निशाना लगा रही थी जिस दिन समिति गठित हुई थी । दरअसल, इसी बीच बुधवार को सांसद प्रज्ञा ने लोकसभा में बापू के हत्यारे नाथूराम गोडसे को देशभक्त बता दिया. मालूम हो ऐसा संसद के बाहर वह पहले भी करती रही हैं. सांसद के इस तरह के कथित राष्ट्रविरोधी बयान को लेकर उठे विवाद के बाद उन्हें रक्षा मंत्रालय की संसदीय कमेटी से हटा दिया गया । साथही भाजपा ने उनके बयान की निंदा करते हुए उनके संसदीय दल की बैठक में हिस्सा लेने पर भी रोक लगा दी. इस सम्बंध में पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष जेपी नड्डा ने भी प्रज्ञा ठाकुर के बयान की निंदा करते हुए कहा कि ऐसे बयानों और विचारधाराओं का भाजपा समर्थन नहीं करती है ।उया कि संसद के वर्तमान सत्र में उन्हें संसदीय दल की बैठक में भी भाग लेने पर रोक लगा दी है. मालूम हो कि, प्रज्ञा ठाकुर के लोकसभा चुनाव और चुनाव के बाद आ रहे इस तरह के बयानों को लेकर पहले भी भाजपा शर्मिंदा हो चुकी है, और विपक्षी दल कांग्रेस को हमला करने के मौके मिले उसके बाद उन्हें पारिटी द्वारा कई बार समझाइश भी दी गई. किंतु, भाजपा से मिल रही समझाइश का प्रज्ञा ठाकुर पर तो असर तो दिखा नहीं उल्टे लोकसभा में बुधवार को गोड़से को राष्ट्रभक्त बताकर नया विवाद खड़ा कर दिया. कयास लगाए जा रहे हैं कि उनकी बयानबाजी से फिर पशोपेश में फंसी भाजपा ने अबकी बार प्रज्ञा ठाकुर पर निलंबन या निष्कासन जैसी कार्रवाई कर नके साथ पूरे देश को संदेश दे सकती है। प्रज्ञा ने गोड़से को बताया देशभक्त, बीजेपी बोली माफी मांगो तो फिर पलटी बयान से हालांकि, राजनीतिक गलियारों में चर्चा यह भी है कि, ऐसे मामलों में भाजपा केवल दिखावा करती है. जैसे इंदौर में वरिष्ठ भाजपा नेता कैलाश विजयवर्गीय के विधायक पुत्र आकाश विजयवर्गीय द्वारा नगर निगम के अधिकारियों की सरेआम पिटाई करने के मामले में किया था. मालूम हो घटना को कई माह गुजर चुके हैं किंतु, सरकार ने आदेश जारी करने के अलावा किया कुछ भी नहीं ।


सम्पर्क सूत्र :- कलाम द ग्रेट न्यूज़ 



Popular posts
इंदौर न्यायालय द्वारा दिया गया एक निर्णय , संतान की सजा माता पिता को मिलती हैं जैने कैसे....
कोरोना वायरस से बचाव के लिए प्रदेश स्तर पर सतर्कता रखी जाए , पर्यटन स्थलों वाले सभी जनपद एयरपोर्ट पर विशेष निगरानी की जाए , अस्वस्थ पयर्टन का विवरण तत्काल जिला प्रशासन को उपलब्ध कराया जाए.
जालसाजों को बचाने में माहिर हैं उत्तर प्रदेश के मुख्य सूचना आयुक्त जावेद उस्मानी ......
लखनऊ नगर निगम सफाई कर्मी ने नशे की हालत में थाने में मचाया उत्पात..
उत्तर प्रदेश सीएम योगी के सख्त निर्देश के बाद आबकारी विभाग ने की बड़ी कार्रवाई.