लखनऊ बारादरी के तहखाने ने खोलें कस्बे के राज , कस्बों की विशेषताओं को जानने और रूबरू होने का मौका मिला .

लखनऊ बारादरी के तहखाने ने खोलें कस्बे , कस्बों की विशेषताओं सांस्कृतिक कला और साहित्य से लोगों को रूबरू कराने के लिए बारादरी में तहखाने को कस्बों के रंगों से रंगा गया। लोगों को कस्बों के बारे में जानने और समझने का अवसर मिल रहा है। फेस्टिवल में अवध से जुड़े बलरामपुर , दरियाबाद, देवा, जैस, काकोरी, खैराबाद, चांदपुर, महमूदाबाद, मलिहाबाद मॉल, मानिकपुर, गुठनी मसौली, बारागांव , मोहन, सफीपुर, मुस्तफाबाद, सलोन नानपारा,रुदौली, संडीला कस्बों के लोगों ने अपने कस्बे की कला यह दर्शन और जाए को जायकों से रूबरू कराया।