अभिनेता ऋषि कपूर के निधन से पूरा बॉलीवुड सदमे , फिल्म जगत मैं दो अभिनेता के खो जाने पर भावपूर्ण श्रद्धांजलि.




*नहीं रहे मार्डन अकबर इलाहाबादी/ रिषी कपूर के निधन से बालीवुड सदमें में*



लखनऊ एक दिन पहले गंभीर अभिनेता इरफान खान के निधन पर शोक में डूबा बालिवुड अभी सदमे से उभरा भी नहीं था कि सदाबहार, खुशमिजाज, और रोमांटिक अभिनेता ऋषी कपूर के निधन से पूरा बालीवुड हतप्रभ हैं ।



ऋषी कपूर ने अपने पिता स्व राज कपूर के निर्देशन में फिल्म मेरा नाम जोकर से बाल कलाकार के रूप में फिल्मों में प्रवेश किया, तथा अपने पिता स्व राज कपूर के ही निर्देशन में फिल्म बाबी से बतौर रोमांटिक चाकलेटी हीरो के रूप में दर्शकों को मंत्रमुग्ध किया ।


बाबी अपने समय की ब्लाक बस्टर साबित हुई, किंतु उसके बाद ऋषी कपूर का कैरियर डगमगा गया और जहरीला इंसान, एक मुठ्ठी आसमान, आदी फिल्में फ्लाप हो गई, किंतु एच,एस, रवैल के निर्देशन में लैला मजनू से जो ऋषी कपूर ने दोबारा रफ्तार पकड़ी तो फिर पीछे मुड़कर नहीं देखा, तथा मनमोहन देसाई के निर्देशन में बनी अमर अकबर एंथोनी में अकबर इलाहाबादी के रोल में जो जान फूंकी वो अमर साबित हुई ।


ऋषी कपूर की इमेज एक रोमांटिक और चाकलेटी हीरो की रही, किंतु फिल्म अग्निपथ में निगेटिव किरदार जो वे निभा गये वो अपने आप में एक अलग ही कला का प्रदर्शन था ।


अपने कैरियर में बाबी,लैला मजनू, क़र्ज़, कातिलों के क़ातिल, नसीब, रफूचक्कर, नगीना, बोल राधा बोल, सहित सैकड़ों सुपर हिट फिल्में दर्शकों को दीं तथा लगभग तीन दशक की सदाबहार अभिनेत्रियों के साथ रोमांटिक फिल्मों में काम किया ।


ऋषि कपूर भाभी एक शानदार रोमांटिक अभिनेता के साथ साथ एक ज़िंदादिल इनसान के रूप में भी जाने जाते रहे, तथा अपने विचारों को निर्भीकता से रखने के भी पक्षधर रहे ।


लगभग पांच दशकों तक दर्शकों के दिलों पर राज करने वाले सदाबहार अभिनेता हंसमुख स्वभाव के इन्सान और अद्भुत प्रतिभा के धनी ऋषी कपूर को कलाम द ग्रेट न्यूज़ की ओर से   मीनाक्षी निगम भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित करता है ।



Popular posts
प्रात: स्मरणीय व कल्याणकारी अत्यंत शुभ मंत्रों और उनके अर्थों के साथ जयशंकर यादव की तरफ से सुभप्रभात।
उत्तर प्रदेश में योगी सरकार ने दिया बहनों को तोहफा रक्षाबंधन पर बस यात्रा मुक्त..
Image
लखनऊ डीएम /बीसी अभिषेक प्रकाश की एलडीए पर बड़ी कार्रवाई..
तुलसीदास की लिखी रामायण की चौपाई , सचिव , वैद्य , गुरु जो बोले भय आज , राजधर्म तन ३ हुई बीग ही नाश.
किसी शायर ने खूब कहा , तारिक आज़मी की मोरबतियां - जय यादव की कलम से जो निकला वहीं सदातकत हैं, हमारी कलम के आगे तुम्हारी जीवाह छोटी सी है।
Image