कोरोना की भयावहता से इन्कार नहीं किया जा सकता है , लेकिन अब यहां भी सत्य है कि हमारे बीच इससे भी घातक बीमारी है.

कोरोना की भयावता से इन्कार नहीं किया जा सकता है, लेकिन अब यहां भी सत्य है कि हमारे बीच इससे भी घातक बिमारियां है!


देश में डेंगू/मलेरिया के इलाज की खोज को हालांकि लगभग 60 साल हो चुके हैं, लेकिन भारत में हर साल मलेरिया के 65 लाख से अधिक मामले सामने आते हैं, जिनमें से 40 हजार लोगों की मृत्यु तकरीबन 3 हजार प्रति माह की दर से हो जाती है।


यश चोपड़ा जैसे प्रतिष्ठित व्यक्ति की मौत डेंगू/मलेरिया से हो गई थी! 


सिर्फ भारत में लगभग 27 लाख क्षय रोगी (TB के मरीज़) हैं और हर साल लगभग सवा दो लाख लोग TB से मर जाते हैं। 
TB की दवाइया सालों से उपलब्ध हैं और सरकार इसे मुफ्त में भी उपलब्ध कराती है।


अगर कोरोना जैसे ही मलेरिया या TB के मामलों की खबरें और आंकड़े रोजाना मीडिया में दिए जाएं, तो लोग पागल हो जाएंगे!


इस लिए आपको बस ये सीखना होगा कि कोरोना के साथ कैसे रहना/लड़ना है। 
१- मास्क 
२-समाजिक दूरी 
३-हाथ धोना 


जैसे कि हम मलेरिया के साथ- ऑल-आउट, ओडोमॉस, कछुआ अगरबत्ती का उपयोग करके!


कोरोना के उपाय थोड़े अलग हो सकते हैं। अपनी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के प्रयास करिए और घबराने की जरूरत नहीं है, बस कोरोना के साथ रहना सीखिए।


कलाम द ग्रेट न्यू से


पत्रकार यश प्रताप यादव।


घर में रहे सुरक्षित रहे , स्वास्थ्य विभाग के नियमों का पालन करें।


सुरक्षित रहें! स्वस्थ रहें!  #Covid19


       


Popular posts
शिक्षा किसी धर्म सम्प्रदाय की एकलौती वरासत नहीं है , मास्टर फिरोज जी अगर संस्कृत पढ़ायेंगे तो वह फारसी के शब्द बोलेगा।
Image
प्रात: स्मरणीय व कल्याणकारी अत्यंत शुभ मंत्रों और उनके अर्थों के साथ जयशंकर यादव की तरफ से सुभप्रभात।
क्या झारखण्ड चुनावों से गायब मोबलीचिंग की घटनाओं पर तारिक आज़मी की मोरबतियां - चार दिन चर्चा उठेंगी डेमोक्रेसी ।
Image
रजनीकांत की पॉलिटिक्स में एंट्री , अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में..
Image
करवा चौथ का व्रत पत्नी और भाभी मां के परिवार साथ संपन्न हुआ , व्रत के बाद इन चीजों का किया सेवन..
Image