देवशयनी एकादशी व्रत के जाने शुभ मुहूर्त और पूजा विधि...

देवशयनी एकादशी, जानें शुभ मुहूर्त और पूजा विधि...

हिंदू धर्म में देवशयनी एकादशी बहुत महत्वपूर्ण मानी गई है। वैसे तो हर महीने में दो एकादशी पड़ती हैं लेकिन योगिनी एकादशी के बाद श्रद्धालुओं को देवशयनी एकादशी का इंतजार रहता है। देवशयनी एकादशी बड़ी एकादशी मानी गई है। इस साल देवशयनी एकादशी 29 जून 2023 को है। इस दिन के बाद से जगत के पालनहार विष्णु जी योग निद्रा में चले जाते हैं, देवों का शयनकाल शुरु हो जाता है। जो चार माह बाद यानि कि कार्तिक माह की देवउठनी एकादशी पर खत्म होता है। इन चार महीनों को चातुर्मास कहा जाता है।

इस साल अधिकमास होने के कारण विष्णु जी 5 महीने तक शयनकाल में रहेंगे। इस एकादशी को हरिशयनी एकादशी और पद्मा एकादशी भी कहते हैं। शास्त्रों में कहा गया है कि देवशयनी एकादशी का व्रत करने से नर्क की यातनाएं नहीं झेलनी पड़ती और जीवन रोग, दोष मुक्त रहता है। देवशयनी एकादशी व्रत में कथा का श्रवण जरूर करें, इसके बिना व्रत व्यर्थ माना जाता है। 

आषाढ़ मास की शुक्‍ल पक्ष की एकादशी तिथि 29 जून की सुबह 3 बजकर 18 मिनट से शुरू होगी और 30 जून को 02 बजकर 42 मिनट तक रहेगी। ऐसे में उदया तिथि के हिसाब से एकादशी का व्रत 29 जून को रखा जाएगा। व्रत का पारण 30 जून को किया जाएगा। वैसे तो व्रत का पारण 30 जून को स्‍नान, दान के बाद कभी भी किया जा सकता है, लेकिन पारण का शुभ समय दोपहर 01 बजकर 48 मिनट से लेकर शाम 04 बजकर 36 मिनट तक है।

पूजा विधि

देवशयनी एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठें। इस दिन पानी में गंगाजल डालकर स्नान करें। साफ कपड़े पहनें। व्रत का संकल्प लें। घर और मंदिर की साफ-सफाई करें। चौकी पर एक पीला कपड़ा बिछाएं। इस पर भगवान विष्णु की तस्वीर स्थापित करके विधि-विधान से पूजा करें। भगवान को फल, फूल और धूप आदि अर्पित करें। पूजन के दौरान भगवान के मंत्रों का जाप करें, देवशयनी एकादशी की कथा पढ़ें या सुनें। भगवान को पंचामृत का भोग लगाएं। एकादशी व्रत के सभी नियमों का पालन करें और अगले दिन स्‍नान और दान के बाद व्रत का पारण करें।

देवशयनी एकादशी शयन मंत्र

29 जून को देवशयनी एकादशी पर भगवान को शयन करवाते समय श्रद्धापूर्वक इस मंत्र का उच्चारण करें ।

     'सुप्ते त्वयि जगन्नाथ जगत सुप्तं भवेदिदम।

      विबुद्धे त्वयि बुध्येत जगत सर्वं चराचरम।'

'हे जगन्नाथ जी! आपके सो जाने पर यह सारा जगत सुप्त हो जाता है और आपके जाग जाने पर सम्पूर्ण विश्व तथा चराचर भी जागृत हो जाते हैं। प्रार्थना करने के बाद भगवान को श्वेत वस्त्रों की शय्या पर शयन करा देना चाहिए।

कलाम द ग्रेट न्यूज़।

सम्पादक - जय शंकर यादव। 

Popular posts
*थाना सफदरगंज क्षेत्रान्तर्गत पुलिस मुठभेड़ में वांछित बदमाश घायल की गिरफ्तारी के सम्बन्ध में-*
Image
जिलाधिकारी व पुलिस अधीक्षक सिद्धार्थनगर द्वारा मोहर्रम त्यौहार के दृष्टिगत थाना क्षेत्र डुमरियागंज का निरीक्षण कर ड्यूटी पर मौजूद सम्बन्धित अधिकारी कर्मचारीगण को आवश्यक दिशा-निर्देश दिया गया ।
Image
थाना फरधान पुलिस द्वारा, चोरी की घटना का सफल अनावरण करते हुए 04 नफर अभियुक्तों व 01 बाल अपचारी को 01 अदद पानी की मोटर व 01 अदद कल्टीवेटर बरामद कर गिरफ्तार किया गया।
Image
कुदरहा विकास खण्ड के परिसर में नीति आयोग, भारत सरकार द्वारा शुरू किए गए संपूर्णता अभियान का शुभारंभ मुख्य अतिथि ब्लॉक प्रमुख अनिल दूबे ने मुख्य विकास अधिकारी जयदेव सीएस डीडीओ बाल विकास परियोजना अधिकारी की गरीमामयी उपस्थित में फीता काटकर किया।
Image
*गन्ना दफ़्तर मे मनाया गया भीम आर्मी भारत एकता मिशन के 9वां स्थापना दिवस*
Image